विमुद्रीकरण की आड़ में गांववालों का शोषण करते बैंक 

किसी की अपनी दर्द भारी दास्ताँ है तो किसी को अपनों को खोने का कभी ना मिटने वाला दर्द। विमुद्रीकरण के बुरे प्रभाव की ख़बरें देश के हर छोटे बड़े इलाकों में देखने और सुनने को मिली है।